दिल्ली से वाराणसी के बीच बुलेट ट्रेन चलाने की योजना पर काम तेजी से चल रहा है। इस परियोजना के तहत दिल्ली से वाराणसी के बीच 958 किलोमीटर लंबे रेलमार्ग का निर्माण किया जाएगा। इस रेलमार्ग पर कुल 13 स्टेशन होंगे, जिनमें से 12 उत्तर प्रदेश में होंगे।

इस परियोजना का प्रारंभिक खर्च लगभग 1.10 लाख करोड़ रुपये अनुमानित है। इस परियोजना के पूरा होने से दिल्ली से वाराणसी की दूरी लगभग 4 घंटे में तय की जा सकेगी।

इस परियोजना के लिए 2024 में भूमि अधिग्रहण शुरू होगा। ट्रैन का निर्माण 2026 में शुरू होगा और 2030 तक इसके पूरा होने की उम्मीद है।

बुलेट ट्रेन के उत्तर प्रदेश में आने से उत्तर प्रदेश के विकास में काफी तेजी आएगी। इससे उत्तर प्रदेश के लोगों को दिल्ली, मुंबई, चेन्नई जैसे बड़े शहरों तक पहुंचने में आसानी होगी। इससे उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था भी मजबूत होगी।

बुलेट ट्रेन के उत्तर प्रदेश में आने से लोगों की आवाजाही में काफी बदलाव आएगा। लोग कम समय में लंबी दूरी की यात्रा कर सकेंगे। इससे लोगों के जीवन स्तर में भी सुधार होगा।

इस परियोजना के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने भूमि अधिग्रहण के लिए एक विशेष नीति भी बनाई है। इस नीति के तहत भूमि अधिग्रहण के लिए मुआवजा अधिकतम दर पर दिया जाएगा।

Share.

मैं सुभाष यादव ssresult.com का मालिक हूं। मुझे टेक्नोलॉजी और ऑटोमोबाइल की खबरों से प्यार है और बिजनेस की खबरों में भी थोड़ी दिलचस्पी है। मेरा मकसद टेक्नोलॉजी की खबरों को आसान भाषा में लोगों तक पहुंचाना है। मुझसे ssresult88@gmail.com और subhashgaya2023@gmail.com पर संपर्क किया जा सकता है।

Comments are closed.